Buxwah

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने Pfizer की Corona Vaccine को दी मंजूरी

WHO की एक्सेस टू मेडिसिन प्रोग्राम की प्रमुख मारियांगेला ने कहा कि यह कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) तक वैश्विक पहुंच सुनिश्चित करने की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है. सभी मानदंडों को ध्यान में रखते हुए ही फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी दी गई है.


जिनेवा: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने फाइजर (Pfizer) और बायोएनटेक (BioNTech) की कोरोना वायरस वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. इसी के साथ दुनियाभर में फाइजर की वैक्सीन के इस्तेमाल का रास्ता खुल गया है. WHO ने मंजूरी देते हुए कहा कि वह अपने क्षेत्रीय कार्यालयों के जरिए संबंधित देशों से इस वैक्सीन के लाभ के बारे में बात करेगा, ताकि वहां भी इसे उपलब्ध कराया जा सके. इस बीच, भारत भी आज कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को लेकर बड़ा फैसला लेने जा रहा है. इस बारे में आज एक महत्वपूर्ण बैठक होनी है.

सभी Test के बाद लिया फैसला
 

WHO ने के बयान जारी करके कहा है कि उसने विस्तृत जांच और टेस्ट के बाद ही फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी दी है. इसी के साथ ‘इमरजेंसी यूज लिस्टिंग’ प्रक्रिया पर भी तेजी से काम चल रहा है, ताकि गरीब देशों को जल्द से जल्द वैक्सीन पहुंचाई जा सके. बता दें कि लिस्ट में शामिल होने के बाद किसी भी कोरोना वैक्सीन को दुनियाभर के देशों में आसानी से आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल जाएगी. इसके अलावा, WHO ने कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर कहा है कि मौजूदा उपायों को अपनाकर इसे बचा जा सकता है. 

प्रभावी है कोरोना Vaccine
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने फाइजर वैक्सीन की समीक्षा के बाद कहा कि इस वैक्सीन के दो डोज लेने के बाद कोरोना से मौत की आशंका भी कम हो जाती है WHO ने अपने बयान में यह भी कहा कि हमने इस वैक्सीन को इसलिए जल्दी मंजूरी दी है, क्योंकि सभी लोगों तक इसकी डोज पहुंचने में देरी न हो. डब्लूएचओ की एक्सेस टू मेडिसिन प्रोग्राम की प्रमुख मारियांगेला सिमाओ ने कहा कि यह कोरोना वैक्सीन तक वैश्विक पहुंच सुनिश्चित करने की दिशा में एक बहुत बड़ा कदम है.

आज होगा अनुमति पर फैसला

वहीं, केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) आज वैक्सीन के इस्तेमाल को लेकर आज एक महत्वपूर्ण बैठक करने जा रहा है. इस बैठक में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया, फाइजर और भारत बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड की वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति मिलने का अनुमान है. हाल ही में भी कस विषय में बैठक हुई थी, लेकिन कोई फैसला ननहीं हो पाया था. जिसके बाद एक जनवरी को बैठक करने के निर्णय लिया गया था. लिहाजा, आज होने वाली बैठक बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ