Buxwah

जलापूर्ति के लिए सागर में जारी है 584 करोड़ रूपये के राष्ट्रीय जल जीवन मिशन

राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण आबादी को शुद्ध पेयजल की समुचित व्यवस्था किए जाने की दिशा में राज्य सरकार के प्रयास तेजी से जारी हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा सागर संभाग में 598 जलप्रदाय योजनाओं का कार्य जारी है। इन जलप्रदाय योजनाओं की लागत 584 करोड़ 43 लाख 62 हजार रूपये है। 


Bundelkhand Bulletin:Fit India Movement अभियान के लिए शिक्षा विभाग की क्या है तैयारी?

प्रदेश की समग्र ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जलसंरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किए जा रहे हैं। इनमें सागर जिले की 314, टीकमगढ़ 129, छतरपुर 41, पन्ना 63, तथा दमोह की 51 जलसंरचनायें शामिल हैं। इन जिलों के विभिन्न ग्रामों में पूर्व से निर्मित पेयजल अधोसंरचनाओं को नये सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग के अन्तर्गत भी कार्य किये जा़ रहे हैं।

लोकगीत की विरासत को नई दिशा देने का साक्षी बना 'बुंदेली बावरा', अश्विनी कुशवाहा के नाम रहा खिताब

इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश जल निगम भी सागर संभाग के 1699 ग्रामों में नल कनेक्शन के जरिये जल उपलब्ध कराने का कार्य कर रहा है। सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर तथा निवाड़ी जिलों के इन ग्रामों में दो लाख 70 हजार 338 नल कनेक्शन दिए जायेंगे। इन जलप्रदाय योजनाओं के पूर्ण होने पर 17 लाख 57 हजार से अधिक ग्रामीण आबादी को लाभ पहुँचेगा।

मीटर रीडर संघ ने निश्चित वेतनमान के लिए ऊर्जा मंत्री से की शिकायत

इन सभी जलप्रदाय योजनाओं में जहाँ जलस्त्रोत हैं, वहाँ उनका समुचित उपयोग कर साथ ही आसपास के ग्रामीण रहवासियों को पेयजल प्रदाय किया जायेगा। जिन ग्रामीण क्षेत्रों में जलस्त्रोत नहीं हैं वहाँ जलस्त्रोत निर्मित किए जायेंगे।

राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत जारी जलप्रदाय योजनाओं का मुख्य लक्ष्य ग्रामीण आबादी में जल संकट को दुर करना एवं शुद्ध पेयजल की समुचित व्यवस्था करना है. 


आपका Bundelkhand troopel टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ