Buxwah

Tikamgarh: बुंदेलखंड को उत्तर प्रदेश से नहीं मिलेगी ऑक्सीजन

बुंदेलखंड के विभिन्न जिलों के लिए अब ऑक्सीजन की कमी भी पड़ सकती है। क्योंकि हमीरपुर और महोबा स्थित ऑक्सीजन प्लांट से सिलिंडर रिफिलिंग को लेकर रोक लगा दी गई है। उप्र सरकार ने आदेश जारी कर प्लांटों पर तय कर दिया गया कि वह किसे और कितने सिलिंडर रिफिल कर देगा। ऐसा होने से अब टीकमगढ़, निवाड़ी और छतरपुर सहित बुंदेलखंड के विभिन्ना जिलों में ऑक्सीजन की कमी पड़ सकती है। दोनों ही प्लांट से कई बार सिलिंडर रिफिल कराए गए हैं।


Jalaun: सीसीटीवी की निगरानी में होगी मतगणना

उप्र हमीरपुर जिले के भरूआ सुमेरपुर स्थित रिमझिम इस्पात लिमिटेड और महोबा में ऑक्सीजन के प्लांट से सिलिंडरों को रिफिल कराया जा रहा था। सिलिंडर रिफिल कराकर जिलों में भेजे जा रहे थे। टीकमगढ़, छतरपुर, निवाड़ी सहित अन्य जिलों द्वारा खाली सिलिंडरों को भेजकर वहां से ऑक्सीजन मंगवाई जा रही थी, जो कोरोना संक्रमितों के इलाज में कारगार साबित हो रही थी। इससे ऑक्सीजन की कमी होने पर पूर्ति लगातार बनी हुई है। लेकिन अब महोबा और भरूआ सुमेरपुर प्लांट से ऑक्सीजन मप्र के जिलों को नहीं दी जाएगी। कार्यालय आयुक्त कानपुर मंडल से आयुक्त डा. राज शेखर ने आदेश जारी कर कलेक्टरों को प्लांट का नोडल अधिकारी भी नियुक्त कर दिया गया है। इसके लिए आवंटन भी तय कर दिया है।

न्यूज एंकर रोहित सरदाना का हार्ट अटैक से निधन

500 सिलिंडर हो गए होंगे रिफिल

टीकमगढ़ जिले के लिए हमीरपुर और महोबा ऑक्सीजन प्लांट से करीब 500 से ज्यादा सिलिंडर रिफिल किए जा चुके होंगे। सागर और ग्वालियर, झांसी में ऑक्सीजन की कमी और सिलिंडर रिफिल नहीं किए जाने के बाद हमीरपुर कोरोना संक्रमितों को ऑक्सीजन दे रहा था। इस दौरान कई लोगों की जान हमीरपुर प्लांट से आई ऑक्सीजन के कारण बची। लेकिन अब ऑक्सीजन नहीं दिए जाने के फैसले से जिला प्रशासन में उदासी बनी हुई है। अन्य विकल्पों को भी तलाशा जा रहा है। 50-50 करके सिलिंडर रिफिल यहां से हुए हैं। बीते गुरूवार को ही टीकमगढ़ में 50 सिलिंडर ऑक्सीजन के आए थे। अब राजनीति सरगर्मी इन सिलिंडरों में होने का मामला भी रिफिलिंग बंद होने का कारण बन सकता है। क्योंकि पूरा मामला प्लांट तक पहुंच गया था।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की टीकाकरण अभियान की समीक्षा

अब सागर और ग्वालियर के भरोसे टीकमगढ़-निवाड़ी

सागर और ग्वालियर से ऑक्सीजन के सिलिंडरों को रिफिल कराया जा रहा है। जिला प्रशासन इन दोनों ही जिलों पर ऑक्सीजन के लिए निर्भर है। लेकिन ग्वालियर और सागर में ही ऑक्सीजन की कमी आ जाती है, जिससे वह अन्य जिलों को ऑक्सीजन देने में नाकामयाब हो जाते हैं। टीकमगढ़ जिले में फिलहाल करीब 412 खाली सिलिंडर हैं, जिसमें रोजाना ही करीब 200 सिलिंडर रिफिल होकर आ रहे हैं। साथ ही इतनी ही खपत बनी हुई है। अब अगर ग्वालियर और सागर में ऑक्सीजन के लिए मनाही कर दी जाती है, तब इमरजेंसी में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

स्रोत-नईदुनिया 

आपका Bundelkhand Troopel टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ