Buxwah

कैसे होगी मानसिक रूप से पीड़ित व्यक्तियों के Human Rights की रक्षा


सड़क से बस गायब:लेकिन ऑनलाइन टिकट बुकिंग कर यात्रियों से वसूल ली राशि

छतरपुर 

छतरपुर की बुंदेलखंड ट्रांसपोर्ट सर्विस कंपनी छतरपुर से भोपाल के बीच बस संचालित करती है। बस का नियमित संचालन नहीं किया जा रहा है। लेकिन आॅनलाइन बुकिंग जारी है, जो यात्री ऑनलाइन भुगतान करके टिकट ले रहे हैं, उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस ठगी का शिकार होने वाले दो भाइयों ने छतरपुर आरटीओ से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है।

मुख्यमंत्री चौहान से भारत सरकार के प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने की मुलाकात

एक दिवसीय धरना:12 सूत्रीय मांगें पूरी नहीं हुई तो 30 जून से नर्सिंग स्टाॅफ ने बेमियादी हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी

छतरपुर

मप्र शासन द्वारा लंबे समय से 12 सूत्रीय मांगें पूरी नहीं किए जाने के विरोध में सोमवार को नर्सिंग स्टाफ ने जिला अस्पताल परिसर में धरना दिया। साथ ही मांगें पूरी न होने पर 30 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी। धरने पर बैठने से पहले नर्सिंग स्टाफ ने सामूहिक अवकाश लिया था।

कार्रवाई के बजाए दौड़ रहे पत्र:उर्मिल नदी में कच्ची सड़क बनाकर हजारों ट्राॅली रेत डंप कर ली

छतरपुर

अधिकारियों की मिलीभगत से लवकुशनगर अनुभाग की नदियों से बड़े पैमाने पर रेत का अवैध खनन हो रहा है। इन दिनों लवकुशनगर तहसील के देवीखेड़ा के समीप से निकली उर्मिल नदी से बेतहाशा रेत का खनन हो रहा है। खनिज, राजस्व की मिलीभगत से रेत माफिया ने उर्मिल नदी के अंदर मिट्‌टी डालकर रोड बना दिया है और नदी के अंदर से रेत निकाली जा रही है। राजस्व और खनिज अधिकारियों को अवैध खनन की जानकारी होने के बावजूद भी कार्रवाई नहीं हो रही है। चूंकि बारिश का मौसम शुरू हो गया है। इसे देखते हुए रेत कारोबारी नदी से खनन कर हजारों ट्रॉली रेत अवैध रूप से डंप करने में जुटे हैं। इनके द्वारा रेत की डंपिंग चौबीस घंटे बदस्तूर जारी है। इन डंप से सैकड़ों ट्रैक्टरों व डंपरों के माध्यम से रेत का परिवहन किया जा रहा है।

कम छात्रों के कारण शासन ने बंद किया स्कूल:युवाओं ने बच्चों को पढ़ाने का संकल्प लिया

छतरपुर

विकासखंड के आदिवासी गांव हरदुआ की शिक्षा व्यवस्था काफी दयनीय है। घने जंगल के बीच स्थित हरदुआ गांव के प्राइमरी स्कूल में 2013-14 से ताला लटका हुआ है। गांव के बच्चों की पढ़ाई ठप्प है, ऐसे में अब गांव के ही पढ़े-लिखे युवकों ने इन बच्चों को नि:शुल्क पढ़ाने का संकल्प लिया है।

जन-आकांक्षाओं के अनुरूप बनेगा इंदौर में फ्लाई ओवर - लोक निर्माण मंत्री भार्गव

अच्छी खबर:खजुराहो में बसेगी जनजातीय बस्ती, ताकि विदेशी हो सकें रूबरू

विदेशी पर्यटकों को मध्यप्रदेश की हजारों वर्ष पुरानी जनजातीय सभ्यता और संस्कृति से रूबरू कराने खजुराहो में संस्कृति विभाग द्वारा जनजातीय बस्ती बनाई जा रही है। मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग के जनजातीय लोक कला एवं बोली विकास अकादमी भोपाल द्वारा इस जनजातीय बस्ती को बसाया जा रहा है।

यह बस्ती खजुराहो के सर्किट हाउस के पास एवं आदिवर्त जनजातीय लोक कला संग्रहालय के परिसर से लगी जमीन पर बसाई जा रही है। जनजातीय लोक कला एवं बोली विकास अकादमी भोपाल के उप निदेशक व आदिवर्त जनजातीय लोक कला संग्रहालय खजुराहो के प्रभारी अनिल कुमार ने बताया कि खजुराहो एक विश्व स्तरीय पर्यटन केंद्र है। इसी दृष्टि से पर्यटकों को मध्यप्रदेश की जनजातीय एवं जनपदीय संस्कृति के संबंध में अवगत कराने के लिए आदिवर्त जनजातीय और लोक कला संग्रहालय खजुराहो का विस्तार किया जा रहा है

बल्देवगढ़ का मामला:प्रशासन ने मंदिरों की जमीन की नीलामी शुरू की, लोगों ने जताया विरोध, बोले- प्रक्रिया पर लगे रोक

बल्देवगढ़

क्षेत्र के मंदिरों की जमीन को नीलाम करने के लिए प्रशासन द्वारा प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जिसका विरोध राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ ने करते हुए एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर रोक लगाने की मांग की है। मंदिरों की जमीन को नीलाम करने के लिए प्रशासन द्वारा सूची जारी करते ही स्थानीय लोगों में विरोध शुरू हो गया है

15 महीने से बंद राज्यरानी एक्सप्रेस:चार सांसद मिलकर भी चालू नहीं करा पा रहे, अब ये तर्क- चिट्‌ठी लिखी है; अभी जल्दबाजी हो  जाएगी 

चार संसदीय क्षेत्र- दमोह, सागर, विदिशा और भोपाल को जोड़ने वाली राज्यरानी एक्सप्रेस (22161/22162) ट्रेन 15 महीने से बंद है। संक्रमण कम होने के बाद भी इसे चार सांसद मिलकर भी चालू नहीं करा पा रहे हैं। उनके प्रयास चिट्ठी लिखने और रेल मंत्रालय से बात करने तक सीमित है। इस ट्रेन से रोज 1900 यात्री सफर करते थे, जिन्हें महंगा किराया देकर बस से सफर करना पड़ रहा है क्योंकि ऐसी कोई दूसरी ट्रेन नहीं है, जो सुबह भोपाल पहुंचा दे और शाम को भोपाल से रवाना होकर रात तक फिर सागर-दमोह पहुंचा दें।

एक माह तक चलेगा अभियान:भीख मांग रहे बच्चों को समझाएंगी टीम, दूसरी बार में आश्रम भेजेगी

सागर

बाल कल्याण समिति के नेतृत्व में चार विभागों की संयुक्त टीम मंगलवार को शहर में घूमकर भिक्षावृत्ति कर रहे बच्चों को पकड़ेगी। शुरूआत सुबह 11 बजे सिविल लाइन से होगी। इसके बाद टीम पूरे शहर के ऐसे स्थानों का भ्रमण करेगी। जहां बच्चे भीख मांगते हुए अक्सर दिखते हैं। बस स्टैंड, कटरा बाजार, सिविल लाइन, शनिदेव मंदिर, रेलवे स्टेशन, निगम मार्केट और मकरोनिया सहित अन्य स्थानों पर बच्चे भिक्षावृत्ति करते हुए मिलते हैं। जिन्हें टीम पकड़ेगी।

हाॅल बनवाने प्राचार्य ने तुड़वा दी छत:पूर्व छात्र ने मां की स्मृति में बनवाया था कंप्यूटर संस्थान

दमोह

एक्सीलेंस स्कूल परिसर में एक छात्र द्वारा अपनी मां की स्मृति में बनवाए गए आधुनिक कंप्यूटर संस्थान पर प्राचार्य ने अलग से हाॅल बनवाने का प्रस्ताव दे दिया है। पीडब्ल्यूडी ने प्राचार्य के प्रस्ताव पर दान से बनी आधुनिक लैब पर तोड़फाेड़ कराना चालू कर दिया है। मां की स्मृति से बिल्डिंग जुड़ी होने के चलते पूर्व छात्र ने इसकी डिजाइन और ड्राइंग स्वयं मुंबई से बनवाई और इसमें लाखों रुपए की राशि खर्च की थी। लेकिन प्राचार्य ने अब इस बिल्डिंग में हाॅल बनाने की अनुमति दे दी है। दरअसल दमोह निवासी यह छात्र इसी स्कूल का छात्र है और वर्तमान में किसी मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करता है। उसने एक ही शर्त पर स्कूल परिसर में संस्थान बनवाने की सहमति दी थी कि संस्थान का नाम उसकी मां सावित्री केशव शुक्ल कंप्यूटर के नाम से रहेगा। पहले तो स्कूल प्रबंधन ने हामी भर दी और छात्र ने बिल्डिंग बनवाकर उसमें संस्थान चालू करा दिया। करीब 10 साल पहले बने इस संस्थान में कंप्यूटर लैब के साथ-साथ बच्चों को पढ़ाया जाता है। इसमें पढ़ने के साथ-साथ लैब में प्रयोग करने की सुविधा भी है। इसमें बच्चे कंप्यूटर की पढ़ाई करते हैं। साथ-साथ अन्य विषयों की क्लासें भी लगती हैं। लेकिन अब स्कूल प्रबंधन की मनमानी के चलते इसके ऊपरी हिस्से में तोड़फोड़ करके हाॅल बनाया जा रहा है। जिससे बिल्डिंग का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो रहा है।

मध्य प्रदेश में 12वीं के रिजल्ट का फार्मूला हुआ तय

विधिक सेवा योजना:मानसिक रूप से बीमार पीड़ित व्यक्तियों के मानवीय अधिकारों को रक्षित किया जाए: शर्मा

दतिया

विधिक सेवा योजना का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि मानसिक रूप से अस्वस्थ अथवा मानसिक अशक्तता से ग्रस्त व्यक्ति कलंकित लोग नहीं हैं और उनके साथ ऐसा ही व्यवहार किया जाएगा जैसा कि किसी अन्य व्यक्ति से। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा समय-समय पर उक्त योजना के संबंध में ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ प्रत्येक जगह विधिक साक्षरता शिविर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा। यह बात सोमवार को गूगल मीट के जरिए आयोजित विधिक साक्षरता शिविर में व्यवहार न्यायाधीश वर्ग दो गुंजन शर्मा ने कही।

आपका Bundelkhand Troopel टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ