Buxwah

गड्ढे दे रहे हादसों को न्यौता, शहर की सड़कें बदहाल


टीकमगढ़:
  शहर के अधिकांश मुख्य मार्गों पर बेतहाशा गड्ढे होने के कारण आम लोगों को आवागमन में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इन गड्ढों को दुरूस्त करने की अब तक कवायद शुरू नहीं की गई, इससे लगता है कि अभी भी प्रशासन को किसी बड़े हादसे का इंतजार बना हुआ है। बारिश ने नगर की सड़कों की दशा बिगाड़ कर रख दी है। चौंकाने वाली बात तो यह है कि इसमें कई सड़कें तो ऐसी भी हैं, जहां कुछ ही समय पहले कार्य कराया गया था। सड़कों की मामूली बारिश में ही दशा खराब हो जाने से वाहनों को आने जाने में असुविधा होने लगी है। वहीं लोग सरकारी राशि के दुुरूपयोग को लेकर भी सवाल उठाने लगे हैं। नपा के अफसरों का कहना है कि जहां गड़बड़ हो गया है, वहां फिर से करा देंगे|

गौरतलब है कि शहर के अस्पताल चौराहा के अलावा नए बस स्टैंड, पुलिस लाइन के समीप, मिश्रा तिराहा के समीप, चकरा तिगैला, कुंवरपुरा तिगैला, कोतवाली के समीप और वन विभाग के समीप सहित अनेक स्थानों पर जानलेवा गड्ढे बने हुए है, जहां से निकलना आम लोगों का दूभर हो जाता है। कभी-कभी तो इन गड्ढों के कारण वाहन चालक भी आगे पीछे भिड़ जाते है, इससे अप्रिय स्थिति निर्मित हो जाती है। सबसे ज्यादा भारी वाहनों को होती है जो इन गड्ढों के समीप से निकलते है, जिससे अक्सर ही दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। ऐसा नहीं है कि लोक निर्माण विभाग को इन गड्ढों की जानकारी न हो, लेकिन इन गड्ढों को दुरूस्त करने की कवायद अब तक विभाग ने नही की।

अस्पताल चौराहा पर सड़क ही गायब

नगर प्रशासन और जिला प्रशासन मची भर्राशाही और अनियमितताओं के चलते कई सड़कें समय से पहले ही दम तोड़ चुकी है और इस संबंध में विभाग के आला अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं। अस्पताल से लेकर गांधी चौराहे तक की सड़क पर लगातार काम लगा रहता है, गुणवत्ताहीन काम का ही परिणाम है कि शहर की अधिकांश सड़कें समय से पहले ही दम तोड़ जाती हैं। अब सड़क पर जगह-जगह गिट्टी-रेत फैली है, जिससे वाहन चालकों को परेशानियां हो रही है। वहीं बाइक चालक फिसलकर गिर रहे हैं। कई बार यहां पर मुरम भी डाल दी गई है। लेकिन वह भी काम नहीं आई। ऐसे में यहां पर भारी भरकम गड्ढे बने हुए हैं। अब यह गड्ढे किसी बड़ी अप्रिय घटना होने का इंतजार कर रही हैं।

मुख्य सड़कों की बिगड़ी सूरत

कुछ ही महीनों में शहर की मुख्य सड़कों की हालत खस्ता हो गई है। छतरपुर मार्ग, पपौरा घाटी, ललितपुर रोड, अस्पताल मार्ग, स्टेडियम से नारगुढ़ा दरवाजा की ओर जाने वाला मार्ग, बस स्टैंड से पुरानी टेहरी बाइपास, कुंवरपुरा रोड सहित अनेक रास्ते शहर के ऐसे हैं, जहां जगह-जगह गड्ढे होने लगे हैं। लोगों ने थोड़ी बारिश में सड़कों के उखड़ने से हो रही परेशानी पर नाराजगी जाहिर की है। देखा जा रहा है कि कुछ दिनों से शहर की जर्जर सड़कों पर प्रशासन द्वारा पेंचवर्क का कार्य शुरु कर दिया गयाथा। लेकिन वह पेंचवर्क कुछ ही दिन तक चल सका। ऐसे में अब सड़कों पर गिट्टी तो फैली ही है। साथ ही गड्ढे भी भारी भरकम हैं। पेंचवर्क का कार्य ठीक से नहीं होने के कारण अब गड्ढे सही से नहीं भर पा रहे हैं और वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

हर रोज निकलते अधिकारियों और नेताओं के वाहन

अस्पताल चौराहा हो या चकरा तिगैला अथवा पुष्पा हायर सेकंडरी स्कूल यहां से प्रतिदिन प्रशासन के अधिकारियों के वाहन रोज ही धड़ल्ले से निकलते है, लेकिन गाड़ियों के कांच लगे होने के कारण प्रशासन के अधिकारियों को यह गड्ढे दिखाई नहीं देते है। लिहाजा इसका खामियाजा नगर की जनता को भुगतना पड़ रहा है। वहीं यहां पर कई बार प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग आ चुके हैं, जो सड़की बदहाल स्थिति को देख चुके हैं। साथ ही विधायकगण भी इस मामले से अवगत हैं। लेकिन सड़कों के सुधार को लेकर किसी भी मंत्री या विधायक ने कवायद नहीं की है। ऐसे में अब जनता इनसे भी सवाल कर रही है।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ